Advertisement

कानपुर देहात में अलियापुर गांव में चार दिन से लापता युवक का शव रविवार को परचून की बंद दुकान में मिला। बदबू आने पर ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद दुकान का ताला तोड़कर देखा गया तो घटना की जानकारी हुई। युवक लापता होने से पहले दुकानदार के यहां शराब पीते देखा गया था।

adv

डॉग स्क्वॉड लेकर पहुंचे सीओ ने छानबीन की। युवक की बेटी ने दुकानदार व अपनी मां के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। दोनों आरोपी फरार हैं। मंगलपुर के अलियापुर गांव निवासी संतोष कुमार (45) की ससुराल मोहाना गजनेर में है। 17 अप्रैल को वह बेटी की गोद भराई करने परिवार के साथ वहां गए थे। पीछे से गांव का परचून दुकानदार सुनील भी संतोष की ससुराल पहुंच गया।

इस पर संतोष का उससे विवाद होने लगा। इस पर संतोष की पत्नी उर्मिला ने सुनील का पक्ष लिया। इससे नाराज संतोष उसी दिन डेरापुर के सनिहापुर गांव में भांजे के घर पहुंच गया। दो दिन वहीं रुकने के बाद 19 अप्रैल को वह गांव अलियापुर पहुंचा। गांव में कुछ लोगों ने उसे सुनील के साथ शराब पीते देखा था।

इसके बाद से वह लापता हो गया। इधर, सुनील ने दुकान खोलना बंद कर दिया। इससे ग्रामीणों को उस पर शक था। रविवार को सुनील की दुकान से बदबू आने पर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने ताला तोड़कर अंदर देखा तो संतोष की हत्या कर शव पॉलीथिन में लपेट कर चारपाई के नीचे रख दिया गया था।

बेटी ने पिता के शव की पहचान की। पुलिस को बताया कि मां के दुकानदार सुनील से संबंध थे। पिता इसका विरोध करते थे। इसी के चलते उनकी हत्या कर दी गई। घटना के बाद उर्मिला व उसका प्रेमी फरार हो गए। गांव पहुंचे सीओ डेरापुर विजयेंद्र द्विवेदी, मंगलपुर इंस्पेक्टर एके मिश्र, चौकी प्रभारी संदलपुर दिनेश चंद्र, फोरेंसिक टीम व डॉग स्क्वॉड ने मौके पर जांच की और साक्ष्य संकलित किए।

जहां जाती थी उर्मिला वहां पहुंच जाता था सुनील
अलियापुर गांव का संतोष शराब का लती था। ग्रामीणों ने बताया कि उसकी पत्नी उर्मिला व पड़ोसी सुनील के संबंध थे। वह अक्सर उसके घर जाता था। सुनील अपने घर के ही एक कमरे में परचून की दुकान रखे था और अकेले ही घर में रहता था। सुनील व उर्मिला की नजदीकी इतनी ज्यादा थी कि अगर उर्मिला मायके जाती थी तो सुनील भी वहां पहुंच जाता था। इस बार संतोष परिवार के साथ ससुराल मोहाना गया तो सुनील भी पहुंच गया। वहां संतोष ने भला बुरा कहा तो ये बात सुनील को नागवार गुजरी। संतोष के गांव आते ही सुनील ने गलती मानकर उसे मना लिया और फिर शराब पिलाई। इसके बाद घर ले जाकर हत्या कर दी।

घर में खूब धूपबत्ती जला रहा था सुनील
अलियापुर गांव में संतोष की घर में ही हत्या करने के बाद सुनील दो दिन तक तो गांव में ही घूमता रहा। शुरुआती दौर में किसी को शक भी नहीं हुआ। हालांकि सुनील घटना की रात 19 अप्रैल के बाद से दुकान नहीं खोल रहा था। 22 अप्रैल से वह घर में खूब धूपबत्ती जला रहा था। इसे मोहल्ले के कुछ लोगों ने देखा भी था। उसके घर से बदबू भी आ रही थी। इसके बाद से सुनील गायब हो गया। इधर शनिवार की शाम संतोष की पत्नी भी फरार हो गई।

मुंह में ठूंसा था कपड़ा
संतोष की हत्या करीब चार दिन पहले ही कर दी गई थी। उसके मुंह में कपड़ा ठूंसा गया था। साथ ही उसके हाथ पैर व शरीर को कई जगह रस्सी से बांधे गए थे। इससे शरीर में कई जगह कट के निशान बने हैं। शव कई दिन पुराना होने की वजह से ये स्पष्ट नहीं हो सका कि हत्या कैसे की गई है। लेकिन मौके पर खून न मिलने से आशंका है कि गला घोंटकर हत्या की गई है। सोमवार को पोस्टमार्टम में हत्या कर वजह स्पष्ट हो जाएगी।

छोड़कर चली गई थी सुनील की पत्नी
अलियापुर गांव के ग्रामीणों ने बताया कि सुनील के संतोष की पत्नी से कई वर्ष से संबंध थे। ये जानकारी सुनील की पत्नी को भी हो गई थी। इस पर आए दिन उसका सुनील से विवाद होता था। वह करीब दो साल पहले उसे छोड़कर मायके चली गई थी। इसके बाद नहीं आई। इसके बाद सुनील घर में अकेला रहने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here