लखनऊ: विभूतिखंड में हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह को गोलियों से छलनी करने वाला एक लाख रुपये का इनामी अपराधी गिरधारी शर्मा उर्फ डॉक्टर उर्फ कन्हैया को दिल्ली पुलिस ने नाइन एमएम पिस्टल के साथ मंगलवार को नाटकीय तरीके से गिरफ्तार कर लिया। गिरधारी पर एक लाख रुपये का इनाम वाराणसी पुलिस ने हत्या के एक मामले में घोषित कर रखा है। वहीं लखनऊ पुलिस और एसटीएफ उसे गिरफ्तार करने के लिये रात-दिन एक किये हुए थी लेकिन वह सबको चकमा देकर दिल्ली पहुंच गया। यही नहीं उसकी गिरफ्तारी से कुछ घंटे पहले लखनऊ की कोर्ट में समर्पण की अर्जी भी डाली थी जिस पर 13 जनवरी की तारीख दी गई थी। कमिश्नरेट पुलिस की एक टीम उसे रिमाण्ड पर लेने के लिये मंगलवार सुबह दिल्ली के लिये रवाना होगी।

छह जनवरी को कठौता चौराहे के पास गिरधारी ने अपने साथियों के साथ अजीत सिंह की हत्या कर दी थी। इस काण्ड में घायल हुए अजीत के साथी मोहर सिंह ने पुलिस को बताया था कि शूटरों में गिरधारी था और उसने ही सबसे ज्यादा गोलियां चलायी थी। मोहर ने एफआईआर करायी थी कि अजीत की हत्या आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह और अखण्ड सिंह ने करवायी है। इस मामले में अब तक मददगार के रूप में प्रिंस और रेहान की गिरफ्तारी हो चुकी थी। प्रिंस की गिरफ्तारी के बाद ही पूर्वांचल के पूर्व बाहुबली सांसद का नाम इस हत्याकाण्ड में आने लगा था। इन बाहुबली के करीबी प्रदीप कबूतरा के भी हत्या की साजिश में शामिल होने की बात कही जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here