गोरखपुर: सीएम योगी के शहर गोरखपुर में गीता प्रेस की स्थापना करने वाले हनुमान प्रसाद पोद्दार के प्रयास से हर घर घर धार्मिक पुस्तकें पहुंची| उसी तरह के प्रयास से आज राम मंदिर के निर्माण का सपना भी पूरा होने जा रहा है| 1949 में जब अयोध्या में भगवान श्रीराम का प्रगोटत्सव हुआ तो उस समय हनुमान प्रसाद पोदद्दार वहां पर मौजूद थे| गीता वाटिका के व्यवस्थापक हरि प्रसाद दुजानी कहते हैं कि भगवान के प्रगट होने के बाद वहां की व्यवस्था को हनुमान प्रसाद पोद्दार ने ही संभाला था| एक तरफ जहां संघर्ष के मोर्चे पर गोरक्षपीठ के महंत दिग्विजयनाथ थे तो वहीं सबकुछ व्यवस्थित करने में हनुमान प्रसाद पोद्दार की अहम भूमिका रही|

गोरखपुर में गीता वाटिका आज राधा कृष्ण भक्ति का अलौकिक राष्ट्रीय केन्द्र है, इसकी स्थापना हनुमान प्रसाद पोद्दार ने की थी| आज जहां पर गीता वाटिका है वो जमीन कभी कोलकाता के सेठ घनश्याम दास की हुआ करती थी| 1933 में इसे गीता वाटिका के लिए खरीदा गया| 1934 से हनुमान प्रसाद पोद्दार वहां पर रहने के लिए आ गये| उसके बाद से यहां पर जो भक्ति की धार बही वो आज तक अनवरत रूप से प्रवाहित हो रही है|

दुजानी बताते हैं कि गीता वाटिका में पहले संकीर्तन एक दो दिन फिर एक सप्ताह और फिर एक महीने के होने लगे| 1968 में राधाष्टमी के लिए अखंड हरिनाम संकीर्तन की शुरूआत हनुमान प्रसाद पोद्दार ने की, जो आज तक जारी है| 22 मई 1971 को भाई जी का महाप्रयाण हुआ फिर भी ये संकीर्तन बंद नहीं हुआ| पिछले 52 सालों से लगातार यहां पर रहे राम हरे कृष्ण का संकीर्तन जारी है| साथ ही जो ज्योति प्रवज्लित की गयी थी वो ज्योति भी निरंतर जल रही है| अखंड संकीतर्न करने के लिए तीन-तीन घंटे की शिफ्ट बनाई गयी है| एक बार की शिफ्ट में तीन लोग बैठते हैं| और ये लोग लगातार यहां पर बिना रुके बिना थके संकीतर्न करते रहते हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here