प्रयागराज: कोरांव थाना क्षेत्र के पसना गांव में अचानक गायब हुए 11 माह का एक बच्चे का शव घर के पीछे तालाब में मिला। गांव में अपहरण कर बच्चे को मार डालने का हल्ला मच गया। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। जांच-पड़ताल के बाद शव पुलिस ने कब्‍जे में ले लिया।

पसना गांव निवासी मनोज आदिवासी का गांव स्थित तालाब के ठीक आगे मकान है। वह अपनी पत्नी सुमन, पुत्री रागिनी, पार्वती, सीता, पुत्र विशाल और 11 माह के अनिकेत के साथ रहता है। रात में सुमन खाना बना रही थी। अनिकेत अन्य बच्चों के साथ खेल रहा था। खाना बनाने के बाद सुमन ने देखा तो अनिकेत वहां नहीं था। यह बात उसने पति को बताई। बच्चे की खोजबीन शुरू की गई।

मनोज ने 112 नंबर पर पुलिस को सूचना दी। देर रात करीब एक बजे घर के पीछे तालाब में अनिकेत का शव नजर आया। पुलिस ने बच्चे का शव देखा तो उसके शरीर पर चोट के निशान नहीं थे। इस संबंध में एसपी यमुनापार चक्रेश मिश्रा का कहना है कि बच्चा छोटा था, इसलिए ऐसा लग रहा है कि कोई जानवर उसे तालाब में उठा ले गया। पानी में डूबने से बच्चे की मौत हो गई। सीओ मेजा सच्चिदानंद का कहना है कि हो सकता है कि बच्चा रेंगते-रेंगते खुद ही उधर चला गया हो।

अनिकेत का शव तालाब में मिलने के बाद जब अपहरण कर मार डालने का हल्ला मचा तो बस्ती की महिलाएं और पुरुष सहम गए। सभी वहीं कुछ दूर पर मान्य देवी के चबूतरे पर पहुंच गए। सभी ने यहां कसम खाई कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया है। ऐसा इसलिए किया गया कि वह अपने आपको निर्दोष साबित कर सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here