Advertisement

प्रयागराज: दुनिया में योग और आयुर्वेद को दुनिया भर में फैलाने वाले आचार्य बालकृष्ण को पंचायती अखाड़ा महामंडलेश्वर की पदवी देने जा रहा है। साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत नरेन्द्र गिरि ने हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ में बाबा रामदेव और आचार्य बाल कृष्ण से मुलाकात के बाद उन्हें महामंडलेश्वर बनाये जाने का प्रस्ताव रखा।

adv

अखाड़ा परिषद सचिव के इस प्रस्ताव पर आचार्य बालकृष्ण ने अपनी सहमति भी दे दी है। अब हरिद्वार में 2021 में आयोजित होने वाले महाकुंभ के दौरान आचार्य बाल कृष्ण पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी से विधिवत जुड़ जाएंगे। इससे पहले अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि योग गुरु स्वामी रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण का हालचाल पूछने पतंजलि योगपीठ हरिद्वार पहुंचे थे।

नरेंद्र गिरि के मुताबिक, अखाड़ों में धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए महामंडलेश्वर बनाए जाने की परंपरा रही है। कुंभ के दौरान या शुभ मुहूर्त में पट्टाभिषेक कर साधु-संतों की मौजूदगी में महामंडलेश्वर की पदवी दी जाती है।

बता दें कि, सनातन परंपरा में संन्यासी बनना सबसे कठिन होता है। शिक्षा, ज्ञान और संस्कार के साथ सामाजिक स्तर को ध्यान में रखते हुए संन्यासी को महामंडलेश्वर जैसे महत्वपूर्ण पदों पर बिठाया जाता है। महामंडलेश्वर अखाड़ों का अंग होते हैं और अखाड़ों को सनातन धर्म की रक्षा करने वाले नागा संन्यासियों के संगठन के रूप में जाना जाता है। साधारण संत को महामंडलेश्वर जैसे पद पर पहुंचने में वर्षो लग जाते हैं। पहले साधु-संतों की मंडलियां चलाने वालों को मंडलीश्वर कहा जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here