नई दिल्ली: कोरोना संकट की वजह से बड़े उद्योग से लेकर दिहाड़ी मजदूर तक प्रभावित हुए हैं| उद्योग-धंधे फिर से शुरू हो गए हैं| लेकिन बड़े पैमाने पर ऐसे लोग हैं, जो रेहड़ी-पटरी या फिर खोमचा लगाकर अपने परिवार का गुजारा करते थे| उनका कारोबार शुरू नहीं हो पाया है| केंद्र सरकार ने ऐसे लोगों की मदद के लिए स्‍वनिधि योजना की शुरुआत की है| कोरोना संकट के बीच लॉन्च पीएम स्वनिधि योजना का लाभ बड़े पैमाने पर लोग उठा रहे हैं|

कोरोना संकट के बीच 2 जुलाई को इस योजना की शुरुआत हुई थी| पीएम स्‍वनिधि योजना के अंतर्गत 25 लाख से अधिक आवेदन प्राप्‍त हुए हैं| जबकि 12 लाख से ज्यादा लोगों के आवेदन मंजूर हो चुके हैं| उत्‍तर प्रदेश में 6.5 लाख से अधिक आवेदन प्राप्‍त हुए हैं| इसमें से 3.27 लाख आवेदनों को मंजूरी दी गई है| उत्‍तर प्रदेश में स्‍वनिधि योजना के ऋण समझौते के लिए स्‍टैम्‍प शुल्‍क माफ किया गया है|

लॉकडाउन की वजह से प्रभावित रेहड़ी-पटरी वालों को दोबारा कारोबार शुरू करने के लिए मोदी सरकार स्वनिधि योजना के तहत पूंजी मुहैया करा रही है| पीएम स्वनिधि योजना शुरू होने से सड़क पर रेहड़ी लगाकर अपना व्यापार करने वालों के बीच काफी उत्साह देखा जा रहा है|

पीएम स्वनिधि योजना के तहत रेहड़ी पटरी (स्ट्रीट वेंडर्स) वालों को 10 हजार रुपये का लोन मिलता है| पीएम मोदी का कहना है कि इस योजना का मकसद सिर्फ कर्ज देना नहीं है, बल्कि इसे रेहड़ी-पटरी वालों के समग्र विकास और आर्थिक उत्थान के परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिए|

अगर आप पूंजी के अभाव में रेहड़ी-पटरी नहीं लगा पा रहे हैं तो बिना गारंटी आप पीएम स्वनिधि योजना के तहत 10,000 रुपये तक लोन ले सकते हैं| इसके लिए आप अपने नजदीकी बैंक में जाकर इस योजना के तहत 10 हजार रुपये लोन लेकर करोबार शुरू कर सकते हैं|

गौरतलब है कि कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत इस योजना की शुरुआत की है| इस योजना के तहत 50 लाख लोगों को लोन देने का लक्ष्य रखा गया है| सबसे खास बात यह है कि इस योजना के तहत कर्ज लेने के लिए कोई गारंटी देने की जरूरत नहीं है|

रेहड़ी-पटरी वालों को यह कर्ज एक साल में मासिक किस्तों में लौटाना होगा. कर्ज समय पर चुकाने वाले लोगों को 7 फीसदी सालाना की ब्याज सब्सिडी भी मिलेगी| साथ में 1200 रुपये तक की कैशबैक की भी सुविधा है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here