1 जुलाई से बैंकिंग नियमों में होने जा रहे हैं कई बदलाव, आपकी जिंदगी पर पड़ेगा प्रभाव

नई दिल्लीः देश में 1 जुलाई 2020 से बैंकों में जमा राशि पर मिलने वाले ब्याज से लेकर के एटीएम से निकासी और मिनिमम बैलेंस तक कई नियमों में बदलाव होने जा रहे हैं|

बुधवार से सभी बैंकों के खाताधारकों को एटीएम से कैश ट्रांजेक्शन करने पर किसी तरह की छूट नहीं मिलेगी| पहले की तरह हर महीने केवल मेट्रो शहरों में आठ और नॉन मेट्रो शहरों में 10 ट्रांजेक्शन ही लोग कर सकेंगे. कोरोना वायरस के चलते पहले लोगों को एटीएम से असिमित निकासी की सुविधा दी गई थी|

सरकार ने फिलहाल 30 जून तक बचत खाते में मिनिमम बैलेंस रखने की सुविधा दी थी| हालांकि अब ये सुविधा भी मिलनी बंद हो जाएगी| ऐसे में खाताधारकों को अपने बैंकों के नियमों के हिसाब से हर माह बचत खाते में मिनिमम बैलेंस रखना होगा| मिनिमम मंथली बैलेंस मेंटेन रखने की जरूरत को लॉकडाउन के दौरान खत्म कर दिया था| मेट्रो सिटी, शहरी और ग्रामीण इलाकों में अलग-अलग मिनिमम बैलेंस का चार्ज लगता है|

सबसे बड़ी मार ग्राहकों के खाते पर मिलने वाले ब्याज पर पड़ी है| ज्यादातर बैंक बचत खाते में मिलने वाले ब्याज में कमी कर देंगे| जहां पंजाब नेशनल बैंक के खाताधारकों को मिलने वाले ब्याज में 0.50 फीसदी की कमी की जाएगी, वहीं अन्य सरकारी बैंकों में भी अधिकतम 3.25 फीसदी ब्याज मिलेगा|

इसके साथ ही 1 जुलाई से कई बैंकों में डॉक्यूमेंट जमा नहीं कराने पर लोगों के खाते फ्रीज हो जाएंगे| बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ ही विजया बैंक और देना बैंक में भी ये नियम लागू हो गया है| गौरतलब है कि विजया और देना बैंक का बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय हो चुका है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »