आगरा: पश्‍च‍िम बंगाल के बीरभूम जिले में मुस्‍ल‍िम समुदाय ने काली माँ के मंदिर के लिए चंदा एकत्रित किया बल्कि खुद उसका निर्माण भी किया| दरअसल दो वर्ष पूर्व बीरभूम जिले में चौड़ी सड़क बनने जा रही थी| ऐसे में इस काम के चलते रास्ते मा पड़ने वाला काली माँ का मंदिर तोड़ा गया था| हालाँकि इलाके के मुस्लिम समुदाय ने चंदा इकट्ठा कर बीते रविवार दिवाली पर फिर से दूसरी जगह काली मंदिर का निर्माण करवा दिया| इतना ही नहीं इस नए मंदिर का उद्घाटन भी मौलवी ने किया| आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ये घटना कोलकाता से लगभग 160 किलोमीटर की दूर बासापुरा की हैं|

यहाँ के स्थानीय निवासी निख‍िल भट्टाचार्य ने बताया कि काफी लम्बे समय से यहाँ लोग चौड़ी सड़क की मांग कर रहे थे| ऐसे में स्‍थानीय पंचायत ने दो वर्ष पहले इसके लिए हामी भर दी थी| हालाँकि इस प्रक्रिया में मंदिर तोड़ना पड़ा था| बीते वर्ष भी दुर्गा पूजा का त्यौहार पंडाल बनवाकर करना पड़ा था| ये काम बहुत खर्चीला भी था| ऐसे में इलाके के मुस्लिम लोगो ने चंदा एकत्र कर मंदिर दूसरी जगह बनवा दिया| इसे बनाने में कुल 10 लाख रुपए का खर्च आया|

2011 की जनगणना केअनुसार बासपारा के ननूर ब्‍लॉक में लगभग 35 फीसदी मुस्लिम ही रहते हैं| इन लोगो ने चंदा एकत्र कर करीब 7 लाख रुपए एकत्रित कर लिए थे| बाकी राशि का प्रबंध अन्य धर्मों के लोगो ने किया| मुस्लिमों ने इस काम में बढ़चढ़ हिस्सा लिया था इसलिए मंदिर के उद्घाटन के लिए भी इलाके के मौलवी नसीरुद्दीन मंडल को बुलाया गया| इस मंदिर का उद्घाटन कर नसीरुद्दीन ने कहा कि वैसे तो मैंने कई मस्जिदों और मदरसों का उद्घाटन किया हैं लेकिन मंदिर के उद्घाटन में मुझे अलग ही सुखद और अनोखा अनुभव मिला|

 

यह भी पढ़े- इस मंदिर में भक्तों को प्रसाद में दिए जाते हैं सोने-चांदी के आभूषण और नोटों की गडि्डयां