Advertisement

गुजरात (Gujarat) के स्कूलों में श्रीमद्भागवत गीता पढ़ाई जाएगी. गुजरात सरकार ने नई शिक्षा नीति के तहत इसका ऐलान किया है. गुजरात शिक्षा मंत्री जीतू वघानी ने गुरुवार को बताया कि शैक्षिक वर्ष 2022-23 से स्कूली शिक्षा में भारतीय संस्कृति और ज्ञान प्रणाली को शामिल किया जाएगा. पहले चरण में भगवत गीता में निहित मूल्यों और सिद्धांतों को 6वीं से 12वीं क्लास के कोर्स में पढ़ाया जाएगा. नई शिक्षा नीति के तहत गीता पढ़ना अनिवार्य होगा. 6 क्लास से 12 के क्लास के छात्रों को गीता के सिद्धांत और मूल्यों को समझाया जाएगा.

adv

सरकार की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक, स्कूल के बच्चे गीता को समझे, उसके ज्ञान और मूल्यों को समझने के लिए गीता पर वक्तृत्व स्पर्धा, श्र्लोक गान और साहित्य का भी आयोजन कराया जाएगा. स्कूलों में गीता को पढ़ाने का ऐलान गुजरात सरकार द्वारा ऐसे समय पर किया गया है. जब प्रदेश में जल्द ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. बताया जा रहा है कि, इस साल नवंबर या दिसंबर में गुजरात के विधानसभा चुनाव हो सकते हैं.

नवंबर या दिसंबर में हो सकते हैं विधानसभा चुनाव
गुजरात विधानसभा चुनाव इस साल नवंबर या दिसंबर में होने की संभावना है. ऐसा इसलिए है क्योंकि राज्य में वर्तमान सरकार का कार्यकाल 18 फरवरी, 2023 को समाप्त हो जाएगा. राज्य में वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार का शासन है. राज्य में 182 विधानसभा सीटें हैं और विधानसभा में स्पष्ट बहुमत हासिल करने के लिए, किसी भी पार्टी या पार्टियों के गठबंधन को बहुमत के निशान तक पहुंचने की जरूरत है, जो राज्य में 92 है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here