नई दिल्ली: IPL 2020 के स्पॉन्सर के लिए इस बार Dream 11 ने वीवो को रिप्लेस किया है| हालांकि वीवो के साथ आईपीएल के लिए बीसीसीआई का कॉन्ट्रैक्ट आगे के लिए भी था, लेकिन सिर्फ इस साल के लिए वीवो और बीसीसीआई ने ऐलान किया है कि एक साल के लिए इसे रोका जा रहा है| Dream 11 के बारे में कई तरह की चर्चाएं सोशल मीडिया पर चल रही हैं| कुछ लोग ट्वीट कर रहे हैं कि इस कंपनी में चीन का पैसा लगा है| आपको बता दें कि ये भारत की ही कंपनी है और इसके दोनों फाउंडर भी भारत के हैं|

इस कंपनी के कई इन्वेस्टर्स हैं जिनमें से एक चीन का टेंसेंट भी है| बताया जा रहा है कि Dream 11 में 10% का स्टेक टेंसेंट के पास ही है|

आइए जानते हैं Dream 11 के बारे में… कैसे ये कंपनी गेमिंग ऐप के जरिए पॉपुलर हुई और अब आईपीएल के स्पॉन्सर के तौर पर भी इसे जाना जाएगा| Dream 11 की पेरेंट कंपनी स्पोर्टा टेक्नॉलजीज प्राइवेट लिमिटेड है जो मुंबई में रजिस्टर्ड है|

Dream 11 न सिर्फ क्रिकेट से जुड़ा है, बल्कि ये फैंटेसी स्पोर्ट्स गेमिंग ऐप हॉकी, फुटबॉल, बास्केटबॉल और कबड्डी में भी है| ये सभी फैंटेसी स्पोर्ट्स गेम इस ऐप पर खेले जा सकते हैं| Dream 11 मुंबई बेस्ड स्पोर्ट्स ऐप है जो एंड्रॉयड और आईओएस के लिए उपलब्ध है| ऐप 106MB का है और इसके डाउनलोड करोड़ों में हैं| गौरतलब है कि Dream 11 में चीनी कंपनी Tencent का भी निवेश है|

2008 में हर्ष जैन और भावित सेठ ने Dream 11 की शुरुआत की| ये दोनों ही बचपन के दोस्त हैं और स्पोर्ट्स के शौकीन भी| आईपीएल 2008 के साथ ही Dream 11 के बारे में उन्होंने सोचा, क्योंकि भारत में तब इस तरह के फैंटेसी लीग के लिए कोई पॉपुलर ऐप नहीं था|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here