लखनऊ: रामकोट थाना क्षेत्र में 25 जून को अपने घरों से लापता प्रेमी युगल के शव गन्ने के एक खेत में पड़े मिले। इस मामले में लड़की पक्ष ने युवक समेत तीन लोगों के खिलाफ गुरुवार को ही बहला फुसलाकर भगा ले जाने का केस दर्ज कराया था। दोनों के शव बुरी तरह सड़ चुके थे| जिसके कारण मामला आत्महत्या और हत्या में उलझ गया। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

रामकोट के सकरापुर निवासी कुछ ग्रामीण शुक्रवार को जानवरों के लिए घास लेने खेतों की तरफ गए थे। इसी बीच उन्होंने खेत में युवक व युवती के शव पड़े देखे। खबर फैलते ही आसपास के कई गांवों के लोग मौके पर पहुंच गए। वहां पहुंचे सकरापुर गांव के हरीश के परिवार ने युवती के शव की शिनाख्त हरीश की पुत्री रुचि मिश्रा (20) व सुभाष चंद्र पांडेय के परिवार ने युवक के शव की शिनाख्त सुभाषचंद्र के पुत्र सुनील पांडेय उर्फ राजन (22) के रूप में की।

सूचना मिलते ही एएसपी मधुबन सिंह, सीओ योगेंद्र सिंह, थानाध्यक्ष राजेंद्र शर्मा पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे और जांच में जुट गए। पुलिस ने शवों के करीब से एक तमंचा मय कारतूस के बरामद किया है। तमंचा मिलने से लोग संदेह जता रहे हैं कि शायद प्रेमी युगल ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली हो। लेकिन पुलिस का कहना है कि मौके पर ऐसे कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं जिससे ये निष्कर्ष निकल सके कि घटना हत्या है या आत्महत्या।

इस घटना को ऑनर किलिंग से भी जोड़ कर देखा जा रहा है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here