प्रयागराज: शहर के धूमनगंज थाना क्षेत्र में मुंडेरा स्थित निजी अस्‍पताल के चिकित्‍सक ने प्रसूता के आपरेशन के दौरान पेट के अंदर ब्‍लेड छोड़ दिया था। कुछ दिन बाद महिला की हालत बिगड़ी तो उसे प्रयागराज के एसआरएन अस्‍पताल ले जाया गया। वहां चिकित्‍सकों ने महिला के पेट से ब्‍लेड तो निकाल लिया लेकिन उसकी हालत नहीं सुधरी। बुधवार को उसकी मौत हो गई।

गैरतलब है कि कौशांबी जनपद में पिपरी थाना इलाके के में फतेहपुर-सहावपुर गांव निवासी लवकुश खेती-किसानी करता है। उसकी 25 वर्षीय गर्भवती पत्‍नी का प्रयागराज के मुंडेरा स्थित एक निजी अस्पताल में 10 दिन पहले प्रसव के लिए आपरेशन कराया गया था। सविता ने एक पुत्री को जन्‍म दिया। सविता के परिवार वालों का आरोप है कि आपरेशन के दौरान डाॅक्टर ने उसके पेट के अंदर ही ब्लेड छोड़ दिया। कुछ दिन बाद महिला की तबीयत खराब होने लगी। हालत बिगड़ने लगी तो परिवार के लोग उसे एसआरएन अस्‍पताल ले गए। स्‍वजनों की मानें तो वहां डाॅक्टरों ने पेट से ब्लेड निकाला लेकिन उसके हालत में सुधार नहीं हुआ। बुधवार की सुबह उसकी मौत हो गई।

अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव लेकर लौटे परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया है। हालांकि मामले को लेकर अभी पुलिस से शिकायत नहीं की गई है। बिन मां के नवजात शिशु की देखरेख कौन करेगा, ये सोच कर परिवार के लोगों का रो-रो कर हाल बेहाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here