ज्ञानपुर: बदरी गांव में मासूम की हत्या के मामले में सख्त अपर पुलिस महानिदेशक वाराणसी बृजभूषण के निर्देश पर विध्याचल मंडल के पुलिस महानिरीक्षक पीयूष श्रीवास्तव ने गोपीगंज के तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक कृष्णानंद राय को निलंबित कर दिया है। आरोप है कि यदि पुलिस समय से कार्रवाई कर देती तो मासूम की जिदगी बचाई जा सकती थी।

बता दे कि कोतवाली क्षेत्र के बदरी गांव में आठ वर्षीय परमेश्वर की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। लापरवाही में एसपी रामबदन सिंह ने प्रभारी निरीक्षक को लाइनहाजिर कर दिया था। मामले को लेकर एडीजी का तेवर तल्ख था। एसपी में बताया कि प्रभारी निरीक्षक को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही इसकी जांच अपर पुलिस अधीक्षक रवींद्र वर्मा को सौंपी गई है।

गोपीगंज कोतवाली पुलिस सौदेबाजी के बाद पीड़ित रामकेवल की प्राथमिकी दर्ज कराने को तैयार थी। दरअसल, मृतक परमेश्वर के पिता रामकेवल के पड़ोस के त्रिलोकी और विजय दो सगे भाई हैं। विजय बाहर रहकर नौकरी करता है जबकि उसकी पत्नी गांव में ही रहती है। 12 नवंबर को त्रिलोकी ने विजय की पत्नी की पिटाई कर दिया था। विजय ने रामकेवल को फोन कर पत्नी का इलाज कराने को कहा था। इसी को लेकर रामकेवल और त्रिलोकी के बीच मारपीट हुई थी। बीच-बचाव करने गए गांव के ही संतोष पांडेय पर त्रिलोकी ने दलित उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करा दिया। रामकेवल भी प्राथमिकी दर्ज कराने कोतवाली गया था लेकिन उसे डांटकर भगा दिया गया था। सौदेबाजी के बाद पुलिस प्राथमिकी दर्ज करने के लिए तैयार हुई थी। चार दिन बाद रामकेवल को बुलाया गया और मेडिकल कराया गया। इसी बीच मासूम की हत्या कर दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here