इलाहाबाद: इलाहाबाद आगमन पर केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रामदास अठावले ने कम आय वाले सवर्णों को भी नौकरी में आरक्षण देने की व्यवस्था की बात कही। उन्होंने कहा कि आठ लाख से कम सालाना आय वाले सवर्ण परिवारों के लोगों के लिए 25 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था की जानी चाहिए।

पत्रकारों से बातचीत में मंत्री ने कहा कि दलितों और पिछड़ों को मिलने वाले आरक्षण को बरकरार रखने की भी वकालत की। अलबत्ता क्रीमीलेयर के लिए आरक्षण का लाभ रोकने पर सहमति जताई।

अठावले ने कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई में केंद्र सरकार सबका साथ सबका विकास की योजना पर काम कर रही है। विपक्ष और दूसरे सरकार को दलित और मुस्लिम विरोधी साबित करने में लगी है, जबकि हकीकत में ऐसा नहीं है। मंत्री ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि धुर विरोधी सपा से हाथ मिलाकर उन्होंने अच्छा नहीं किया। दलितों का अगर वह भला चाहती थीं तो उन्हें भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 के चुनाव में भाजपा को हराने के लिए विपक्ष एकजुट हो रहा है, लेकिन यह आसान नहीं है। उन्होंने एससी-एसटी एक्ट और प्रमोशन में आरक्षण के लिए जल्द कानून बनाने का भरोसा दिया। कहा कि मानसून सत्र में विधेयक पेश किए जा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here