लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस ने योगी सरकार के कार्यकाल में अब तक 6,126 एनकाउंटर कर 122 दुर्दांत अपराधियों को मौत के घाट उतार दिया गया, जबकि 2293 बदमाश जख्मी होने के बाद पुलिस की पकड़ में आए| हालांकि इस कोशिश में 13 पुलिसकर्मी शहीद भी हुए हैं| इनमें से 8 पुलिसकर्मी सिर्फ बिकरू हत्याकांड में ही अपनी जान गंवा बैठे|

6126 मुठभेड़ के आंकड़े 20 मार्च 2017 से 10 जुलाई 2020 के बीच के हैं इस दौरान यूपी पुलिस ने 13,361 अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल की सलाखों के पीछे भी भेजा| 2293 अपराधी ऐसे थे, जिन्हें मुठभेड़ के दौरान गोली लगी और वे घायल हो गए| योगी राज के ऑपरेशन क्लीन के तहत पुलिस ने विकास दुबे एंड गैंग समेत 122 दुर्दांत अपराधियों को ढेर कर दिया| मुठभेड़ के दौरान 894 पुलिसवाले भी गोली लगने से घायल हुए, जबकि 13 पुलिसकर्मी शहीद हो गए|

योगी राज में सबसे ज्यादा एनकाउंटर मेरठ और आगरा में हुए| मेरठ में कुल 2070 मुठभेड़ों में पुलिस ने 3792 अपराधी गिरफ्तार किए| इनमें से 1159 गोली लगने से घायल हुए, जबकि 59 को पुलिस ने मौके पर ही मार गिराया|
इसके बाद आगरा में 1422 एनकाउंटर्स किए गए| इस दौरान 3693 अपराधी गिरफ्तार हुए, जबकि 134 गोली लगने से घायल हुए| पुलिस ने आगरा में 11 अपराधियों को ढेर कर दिया|

इसके अलावा प्रयागराज में 245 एनकाउंटर में 492 अपराधी गिरफ्तार हुए, जबकि पांच मारे गए|

इसी तरह बरेली में 879 एनकाउंटर्स में 1940 अपराधी गिरफ्तार किए गए|

गोरखपुर में 196 मुठभेड़ों में 462 अपराधी पकड़े गए और 4 मारे गए|

कानपुर में 419 मुठभेड़ों में 828 अपराधी गिरफ्तार और 8 ढेर हुए|

लखनऊ में 227 मुठभेड़ में 580 अपराधी गिरफ्तार और 9 ढेर हुए|

वाराणसी में 379 मुठभेड़ के दौरान 792 अपराधी गिरफ्तार और 11 एनकाउंटर में मारे गए|

लखनऊ कमिश्नरी में 30 एनकाउंटर्स में 65 अपराधी गिरफ्तार हुए और 2 मारे गए|

गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) कमिश्नरी में 259 मुठभेड़ में 717 गिरफ्तार किए गए और 6 अपराधी मारे गए|

News Source: Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here